News

राम मंदिर के लिए दान देना चाहते हैं NRI, PM मोदी से मांगी इजाजत

  • अमेरिका की जयपुर फुट यूएसए संस्था ने उठाई मांग
  • कोविड के लिए पीएम केयर्स फंड में भी दे चुके हैं दान

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां तेज हो गई हैं. दुनिया भर के देशों में मंदिर निर्माण को लेकर उत्सुकता है. दुनिया के तमाम देशों में फैले रामभक्त मंदिर निर्माण में अपनी भागीदारी निभाना चाहते हैं. इसी कड़ी में अमेरिका में भारतीयों का एक प्रमुख संगठन आगे आया है उसने मंदिर निर्माण के लिए दान देने की इच्छा जताई है. इस संगठन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग कि है वे इसकी इजाजत दें ताकि राम मंदिर निर्माण के लिए वे दान दे सकें.

अमेरिकी संस्था जयपुर फुट यूएसए के अध्यक्ष प्रेम भंडारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, दुनिया में 3.2 करोड़ के आसपास एनआरआई (अनिवासी भारतीय) और पीआईओ (भारतीय मूल के लोग) हैं जिनमें ज्यादातर राम मंदिर निर्माण में अपना योगदान देना चाहते हैं. प्रेम भंडारी अमेरिका में कम्युनिटी एक्टिविस्ट भी हैं. भंडारी ने प्रधानमंत्री मोदी से अपील की है कि वे एक सिस्टम बनाएं ताकि जो लोग दान देना चाहते हैं वे 10 डॉलर से लेकर 100 डॉलर के बीच अपना योगदान दे सकें.

भंडारी ने कहा कि एकत्र की गई राशि श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में सीधा पहुंचा दी जाए. उन्होंने कहा, मैं रामलला का भक्त हूं, इसलिए चाहता हूं कि अयोध्या में जो भव्य मंदिर बन रहा है, उसमें मेरा भी सहयोग हो. कई ऐसे लोग हैं जो हिंदुस्तान में नहीं रहते लेकिन मंदिर निर्माण में योगदान देना चाहते हैं. कुछ ऐसा प्रावधान होना चाहिए कि एनआरआई चंदे के रूप में दान दे सकें.

ये भी पढ़ें: श्रीराम जन्मभूमि होगा मंदिर का नाम, स्टील-लोहे का नहीं होगा इस्तेमाल, बनेगा विशाल मंडप

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल फरवरी महीने में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाने का ऐलान किया था. भंडारी ने कहा कि भारत में रहने वाले लोग ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में फैले भारतीयों के लिए प्रबंध होना चाहिए कि वे राम मंदिर के लिए दान दे सकें. ‘जयपुर फुट यूएसए’ के अध्यक्ष भंडारी ने कहा, ऐसा इसलिए है क्योंकि पूरी दुनिया में फैले हिंदुओं के लिए यह मंदिर धार्मिक, ऐतिहासिक और सांस्कृति महत्व का प्रतीक है. भंडारी ने यह भी बताया कि हिंदुस्तान में कोविड को देखते हुए बनाए गए पीएम केयर्स फंड में उनके संगठन ने एक दिन में 1 करोड़ रुपये (133,949 अमेरिकी डॉलर) की राशि पहुंचाई.

Previous ArticleNext Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *