News

गुजरातः लोक रक्षक दल की भर्ती पर झुकी सरकार, वापस लिया आदेश

  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दौरे से पहले फैसला
  • भर्ती प्रक्रिया को लेकर 70 दिन से चल रहा आंदोलन

लोक रक्षक दल की भर्ती प्रक्रिया को लेकर चौतरफा घिरी विजय सरकार 70 दिन से चल रहे धरने के आगे आखिरकार झुक गई है. सरकार ने 1 अगस्त 2019 को जारी किया गया आदेश निरस्त कर दिया है. सरकार की ओर से मंगलवार को इस संबंध में जारी किए बयान में कहा गया है कि नया संशोधित आदेश जल्द ही जारी कर दिया जाएगा.

सरकार ने पुराना आदेश रद्द कर नया आदेश जारी करने का फैसला राजधानी गांधीनगर में उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल की प्रदर्शनकारियों के साथ बैठक के बाद किया. उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की. इस दौरान प्रतिनिधियों ने उपमुख्यमंत्री को अपनी चिंता से अवगत कराते हुए यह आदेश निरस्त करने की मांग की.

यह भी पढ़ें- सरकार से बगावत कर रहे हैं अल्पेश ठाकोर, लोक रक्षक दल के मुद्दे पर आंदोलन करने की दी धमकी

उपमुख्यमंत्री की प्रदर्शनकारियों के साथ बैठक के दौरान भाजपा नेता अल्पेश ठाकोर, कुंवरजी बावलिया भी मौजूद रहे. गौरतलब है कि 1 अगस्त को जारी आदेश के खिलाफ बड़ी संख्या में महिला अभ्यर्थी पिछले 70 दिन से राजधानी गांधीनगर में धरने पर बैठी थीं. महिला अभ्यर्थियों के इस आंदोलन को समाज के विभिन्न तबकों का समर्थन मिला.

यह भी पढ़ें- कश्मीर के दामाद के जवाब में PM मोदी से बोले थरूर- मेरी बहू गुजरात से…

बता दें कि यह मामला गुजरात हाईकोर्ट भी पहुंचा था. आंदोलन की अनदेखी और लोक रक्षक दल की भर्ती से जुड़े सवाल पर सरकार मामले के हाईकोर्ट में होने का हवाला देकर पल्ला झाड़ ले रही थी. रुपाणी सरकार के बैकफुट पर आने के पीछे कुछ मंत्रियों, विधायकों और सांसदों के भी आंदोलन का समर्थन कर देने को वजह माना जा रहा है. इसके अलावा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी आने वाले हैं.

Previous ArticleNext Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *