News

उत्तराखंड: लॉकडाउन के कारण हजारों पर्यटक फंसे, राज्य सरकार भेजेगी उनको घर

  • कोरोना वायरस के कारण देश में 21 दिनों का लॉकडाउन
  • राज्य में फंसे पर्यटकों को घर भेजेगी उत्तराखंड सरकार

कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया गया. जिसके कारण पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर भी ब्रेक लग गया. लॉकडाउन के कारण किसी तरह के कोई यातायात के साधन न मिलने के कारण उत्तराखंड में कई पर्यटक भी फंस गए हैं.

यह भी पढ़ें: क्या नॉनवेज खाने से फैलता है कोरोना, AIIMS के डायरेक्टर ने बताईं ये बातें

देश में हुए लॉकडाउन के बाद जहां काफी संख्या में बाहरी राज्यों के पर्यटक उत्तराखंड में फंस चुके हैं तो वहीं अब सरकार भी उनको सकुशल उनके घर भेजना चाहती है. उत्तराखंड सरकार केंद्र सरकार से अनुमति लेकर बसों का इंतजाम कर सभी पर्यटकों को उनके राज्य उनके घर भेजने की व्यवस्था कर रही है. फंसे हुए अधिकतर लोग गुजरात और उत्तरप्रदेश के हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से बचाव है जरूरी, इस एक आदत से रहें बिल्कुल दूर

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पर्यटकों को वापस भेजने की बात कही है. सीएम रावत ने कहा है कि उत्तराखंड में देश के अलग-अलग राज्यों से आए हुए तमाम पर्यटकों को वापस भेजने की तैयारी की जा रही है. उत्तराखंड में फिलहाल करीब 2100 पर्यटक हैं. सीएम रावत ने कहा है कि केंद्र सरकार से बात कर पर्यटकों को किसी तरह उनके घर तक पहुंचाने की अनुमति ली जाएगी. इसके लिए बसों की व्यवस्था भी की जाएगी.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

मुख्यमंत्री ने बताया की 2100 से ज्यादा पर्यटक हरिद्वार और ऋषिकेश में हैं. इससे ज्यादा पर्यटकों के होने की भी संभावना है. इनमें सबसे ज्यादा करीब 400 लोग गुजरात से हैं. इसके अलावा राजस्थान, हरियाणा, उत्तरप्रदेश सहित देश के अन्य राज्यों से भी लोग यहां पर है. जो भी लोग घर जाना चाहते हैं, सरकार उनको घर भेजेगी और उनके जाने का प्रबंध करेगी.

यह भी पढ़ें: कोरोना से निपटने की तैयारी, देश भर में 57 सेंटर पर दे सकते हैं सैंपल, देखें लिस्ट

कोरोना वायरस को लेकर खुद मुख्यमंत्री रावत काफी गंभीर हैं. उत्तराखंड सरकार हर हाल में कोरोना को विदा करना चाहती है. मुख्यमंत्री ने विशेष बातचीत के दौरान आजतक से कहा है कि अगर प्रदेश के लोगों ने इस लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं लिया तो जल्द ही कर्फ्यू भी लग सकता है.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस आम सर्दी-जुकाम से कितना अलग? ये होते हैं लक्षण

बता दें कि भारत में लगातार कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है. अब तक भारत में 690 से ज्यादा कोरोना वायरस के मरीज सामने आ चुके हैं. वहीं 16 मरीजों की मौत भी हो चुकी है. कोरोना के संकट को देखते हुए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू किया गया है.

Previous ArticleNext Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *